भरत चले चित्रकूट हो रामा राम को मनाने,
राम को मनाने भैया राम को मनाने,
राम को मनाने भाभी सीता को मनाने……

तन पुलकित अति सजल नयन भर,
सिर पर जस जटा जुट हो रामा राम को मनाने,
भरत चले चित्रकूट, हो रामा राम को मनाने,
राम को मनाने भाभी सीता को मनाने……

छल बिल खट छन प्रेम मगन मन,
मन करे नीरज छुर हो रामा राम को मनाने,
राम को मनाने भैया राम को मनाने,
राम को मनाने भाभी सीता को मनाने…..

दास विकास अचरज सुमिरत,
लाखो जनम कर लुट हो रामा राम को मनाने,
राम को मनाने भैया राम को मनाने,
राम को मनाने भाभी सीता को मनाने……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह