देखो शबरी के खुल गए भाग कुटिया में राम आ गए…..

मेरी कुटिया में गंगा और सरयू,
स्नान करेंगे श्री राम, कुटिया में राम आ गए…….

मेरी कुटिया में चंदन का पेड़ है,
तिलक लगाएं सुबह शाम, कुटिया में राम आ गए…….

मेरी कुटिया में तुलसी का पेड़ है,
पूजा करेंगे सुबह शाम, कुटिया में राम आ गए…….

भर भर डलिया वेदों के लाई,
देखो भोग लगाएं मेरे राम, कुटिया में राम आ गए…….

जो बेर शबरी ने राम को दिए हैं,
देखो राम जी ने खाई झुठे बेर, कुटिया में राम आ गए…….

जो बेर शबरी ने लक्ष्मण को दिए हैं,
लक्ष्मण ने फेंके नीचे बेर, कुटिया में राम आ गए…….

लक्ष्मण को जब शक्ति लगी थी,,
संजीवन बन गए बेर, कुटिया में राम आ गए…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह