दशरथ तीन बचन गए हार वन की करो राम तैयारी…..

कौशल्या मां तुम्हारी वह लगती सास हमारी,
उनके चरण छुवत भई देर, वन की करो राम तैयारी…….

वह दशरथ पिता तुम्हारे वह लगते सुसर हमारे,
उनके चरण छुवत भई देर, वन की करो राम तैयारी…….

वह भगनी बहन तुम्हारी वह लगती ननंद हमारी,
उसको विदा करत भई देर, वन की करो राम तैयारी…….

और लक्ष्मण भाई तुम्हारे वह लगते देवर हमारे,
उनसे होली खेलत भई देर, वन की करो राम तैयारी…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह