हरे रामा रिमझिम बरसे बदरिया,
झूले दशरथ की रनिया
की हरे रामा रिमझिम बरसे बदरिया,
के झूले दशरथ की रनिया
की हरे रामा रिमझिम बरसे पनिया,
झूला झूले रे रनिया…..

महलन महलन झूला डारे,
झूल रहे हैं रघुवर प्यारे,
की हरे रामा मंद मंद मुस्कनिया,
की झूला झूले रे हरि….

सीता मैया झूला झूले,
भरत शत्रुघ्न लक्ष्मण झूला झूले,
की हरे रामा बाजत पग पैजनिया,
की झूला झूले रे हरि….

तीनों मैया झूल रही है,
मन ही मन में फूल रही है,
कि हरे रामा सावन की बरसे बदरिया,
की झूला झूले रे हरि….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह