चिंतापुरनी मां ने मैनू मौज लायी ए,
जी लायी लायी लायी, मैनू मौज लायी ए,
कदे कदे नयीं हर रोज लायी ए,
चिंतापुरनी मां ने मैनू मौज लायी ए……..

सुखां वाली कर दिती छां महरानी ने,
चरना च दिती मैनू थां कल्याणी ने,
रहमतां दी खैर मेरी झोली पाई ए,
चिंतापुरनी मां ने मैनू मौज लायी ए…..

आसरा ए मां दा होर कोई वी सहारा ना,
अम्बे दर बाजों होर किते वी गुजारा ना,
खुशियां दी मेरे लयी मां झड़ी लायी ए,
चिंतापुरनी मां ने मैनू मौज लायी ए…..

राजू हरिपुरीया वी मां दे दर औन्दा ए,
शैली सिंह मईया दर हाजरीयां लौंदा ए,
जिन्दगी ए सारी मां दे लेखे लायी ए,
चिंतापुरनी मां ने मैनू मौज लायी ए…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कोकिला व्रत

रविवार, 21 जुलाई 2024

कोकिला व्रत
गुरु पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

गुरु पूर्णिमा
आषाढ़ पूर्णिमा

रविवार, 21 जुलाई 2024

आषाढ़ पूर्णिमा
मंगला गौरी व्रत

मंगलवार, 23 जुलाई 2024

मंगला गौरी व्रत
संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी

संग्रह