नहाँ धोके मै बैठी भगतणी, भजे राम की माला,
भेष बदल कै कृष्ण आग्या, बण के माँगन आला……

चिमटा ठा कै भाजी भगतणी, ठहर जा माँगण आला,
मेरी भक्ति में भंग गेर दिया, मै फेरूँ थी माला,
नहाँ धोके मै बैठी भगतणी, भजे राम की माला,
रे रहण दे भगतणी जाण दे भगतणी, झूठी फेरे माला,
उपरले तै राम रटे है तेरे भितरले में काला,
नहाँ धोके मै बैठी भगतणी, भजे राम की माला…..

राम रटया ध्रुव भगत नै, उमर का था वो याला,
अरे धजा चढ़ी आकाश में, दुनिया में होया उजाला
रे रहण दे भगतणी जाण दे भगतणी झूठी फेरे माला
उपर ले तै राम रटे है तेरे भितरले में काला,
नहाँ धोके मै बैठी भगतणी, भजे राम की माला……

राम रट्या था मीरा बाई ने, बण में ल्या लिया डेरा।
आठ सौ झाल त्याग दिए, ओने लेई काठ की माला
रे रहण दे भगतणी जाण दे भगतणी झूठी फेरे माला
उपर ले तै राम रटे है तेरे भितरले में काला
नहाँ धोके मै बैठी भगतणी,भजे राम की माला……

राम रट्या था धन्ना भगत ने, बीज बाँट दिया सारा,
बोई काँकर काटे तूम्बे, अन्न उपज्या था अपारा,
रे रहण दे भगतणी जाण दे भगतणी,
रे रहण दे भगतणी जाण दे भगतणी, झूठी फेरे माला,
उपर ले तै राम रटे है तेरे भितरले में काला
नहाँ धोके मै बैठी भगतणी,भजे राम की माला…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह