शबरी को इंतजार आपने राम प्यारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का…..

मन की आखों से मै दर्शन निसदिन करती हु,
सूरत गगन में गई रात दिन मरती हु,
भजन में देख बिना भईया वो नजारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का,
शबरी को इंतजार आपने राम प्यारे का…..

साध संगत सेवा करना गुरु का संदेश है,
चक के सिमरन कर ले बेटा ये मरा आदेश है,
अभी जीवन है सेष है मन समझा ले बंजारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का,
शबरी को इंतजार आपने राम प्यारे का,
मिल गया संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का…..

काम क्रोध लोभ मोह पड़ जाता है त्यागना,
ढाई घड़ी का सिमरन कर ले ये सच्ची है भावना,
जागले फेर देख ले डेरा बोहोत किनारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का,
शबरी को इंतजार आपने राम प्यारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का…..

अर्जुन जैसा ध्यान कर चिड़िया को देख ले,
गुरू उतरन एक लवज का देखा तीर कमान है,
संगत इंतजार करें छतरपुर भंडारे का,
मिल गया री संदेशा मेरे सतगुरू प्यारे का…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह