श्री राम राज फिर आया है, मन्दिर वहीं बनाया है

1- रावण था असुरों का राजा,
असत्य झूँठ था उसका काजा ।
मिल गया जब सत्य स्वरुपा ,
रावण को दे दिया धाम अनूपा।।
सदा हुई है सत्य की जीत,
कैसे टूटेगी ये रीत ।।
समय ने फिर दोहराया है (समय वही फिर आया है।) मन्दिर वहीं बनाया है।

2- तीन रंग से बना तिरंगा,
सबसे ऊपर भगवा रंगा।
सत्य सनातन धर्म है ऊपर ( सुंदर)
सारे धर्म है इसके अंदर ।।
कब तक सत्य से भागोगे,
एक ना एक दिन जागोगे ।।
मथुरा काशी बकाया है ,मन्दिर वहीं बनाया है

3- फूलों से सजी है आज अयोध्या,
दीपों से जगमग आज अयोध्या।
खाली न गई भक्तों की कुर्बानी ,
स्वर्णिम अक्षर से लिखी कहानी ।।
(स्वागत) अभिनन्दन सबका करे द्वार पर,
बजरंग बली को मनाया है। (की छाया है)
मन्दिर वहीं बनाया है।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह