तुम्हें नहीं देखा हनुमान अंगूठी कहां से लाए,
मेरी नहीं जान पहचान अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

ना हीं तुम्हें देखा जनकपुरी में,
ना हीं मुनियों के साथ, अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

ना हीं तुम्हें देखा अवधपुरी में,
ना हीं रघुवर के साथ, अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

ना हीं तुम्हें देखा गंगा तट पर,
ना हीं केवट के साथ, अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

ना हीं तुम्हें देखा पंचवटी पर,
ना हीं लक्ष्मण के साथ, अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

ना हीं तुम्हें देखा चित्रकूट में,
ना हीं ऋषियों के साथ, अंगूठी कहां से लाए,
तुम्हें नहीं देखा…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह