आ लौट के आजा भोलेनाथ,
तुझे माँ गौरा बुलाती है,
तेरा सुना पड़ा रे कैलाश,
तुझे माँ गौरा बुलाती है,
आ लौट के आजा भोलेनाथ,
तुझे माँ गौरा बुलाती है……

अंगो पे विभूति गले में माला,
पहने है शंकर भोला,
तुम हो सबका पालन हार,
तुझे माँ गौरा बुलाती है,
आ लौट के आजा भोलेनाथ,
तुझे माँ गौरा बुलाती है……

माथे पे चंदा जटा में गंगा,
जटा से बहती धारा,
सबका करता तू बेड़ा पार,
तुझे माँ गौरा बुलाती है,
आ लौट के आजा भोलेनाथ,
तुझे माँ गौरा बुलाती है…….

हाथो में डमरू पास में त्रिशूल,
नंदी पे करता सवारी,
सबका तू है पालनहार,
तुझे माँ गौरा बुलाती है,
आ लौट के आजा भोलेनाथ,
तुझे माँ गौरा बुलाती है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह