आज भोलेनाथ पधारे है,
हम भक्तों के भाग्य जगे है,
वारे न्यारे है….

कोई गंगाजल लाये,
इनका अभिषेक कराये,
कमल के फूल से भगतों,
सजाए आज इनको,
भांग धतूरा बेलपत्र इन्हें,
लगते प्यारे है,
आज भोलेनाथ पधारे है…..

मेरे भोलेनाथ जैसा,
नही कोई और ऐसा,
बैठ गंगा के किनारे,
भगतों के है रखवारे,
मुखड़ा ऐसे चमचम चमके,
ज्यूँ चाँद सितारे है,
आज भोलेनाथ पधारे है…….

लगा दरबार बैठा,
बड़ा दातार बैठा,
अरज जिसने है लगाई,
करी है तुरत सुनाई,
पल में भंडारे ये भरता,
जो नाम पुकारे है,
आज भोलेनाथ पधारे है…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह