रूठ गई है किस्मत ये मेरी रूठा जग सारा,
अब तू ही सहारा भोले तू ही सहारा………

कालों के काल महाकाल तेरा घर तो है कैलाश,
तेरे दर पर आया हूं मैं कुछ भी नहीं है मेरे पास,
अपना दुख मैं कितना सुनाओ किस्मत ने हैं मारा,
अब तू ही सहारा भोले तू ही सहारा…….

चढ़ता है तुझको भांग धतूरा मिश्री मलाई न भाता है,
तेरी जटा से निकली गंगा गंगाधर कहलाता है,
तेरे नाम से दुख हट जाता दे दे साथ हमारा,
अब तू ही सहारा भोले तू ही सहारा……..

मैं हूं तेरा बाल पुजारी तुम मेरे तू स्वामी हो,
गलती माफ करना मैं तो एक कल गामी हूं,
अब मान भी जाओ मेरे भगवन कर दो वारा न्यारा,
अब तू ही सहारा भोले तू ही सहारा………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह