भोला भोला करे सारी दुनिया,
भोले सबसे प्यार करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे….

शीश भोले के गंगा विराजे,
उसमे दुनिया नहाया करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे….

माथे भोले के चंदा विराजे,
दुनिया शीश झुकाया करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…..

गले भोले के नागो की माला,
दुनिया दूध पिलाया करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…….

हाथ भोले के डमरू सोहे,
डम डम डम डम बाजा करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…….

हाथ भोले के डमरू सोहे,
इसपे दुनिया नाच करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…….

संग भोले के गौरा सोहे,
दुनिया दर्शन पाया करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…….

नीलकंठ पे तेरा है बसेरा,
दुनिया धोक लगाया करे,
भोला नंदी पे बैठ के आया रे करे…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह