दीवानों फूल बरसाओ,
मेरे महाकाल आए है,
मेरे महाकाल आए हैं,
दीवानों आरती गाओ,
मेरे महाकाल आए हैं……

गले में नाग की माला,
है ओढ़े हुए है मृगछाला,
नहाए हुए है भस्मी से,
जटा में गंग की धारा
बजे करताल डमरू की,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं,
दीवानों फूल बरसाओ,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं……

खड़ी है प्रजा ये चौखट पर,
खड़े देवी देवता सारे,
चली भूत-प्रेत की टोली,
चले नंदीनाथ मस्ता कर,
सजी है गौरा महारानी,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं,
दीवानों फूल बरसाओ,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं…..

चौसठ योगिनी बावन भैरव,
असुर नाग किन्नर के है स्वामी,
खड़ी बारात द्वारे पे,
आई मैया हरसिद्धि महारानी,
गाई बारात ‘बिट्टू’ ने,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं,
दीवानों फूल बरसाओ,
मेरे महाकाल आए हैं,
मेरे महाकाल आए हैं…….

दीवानों फूल बरसाओ,
मेरे महाकाल आए है,
मेरे महाकाल आए हैं,
दीवानों आरती गाओ,
मेरे महाकाल आए हैं……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

मोहिनी एकादशी

रविवार, 19 मई 2024

मोहिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 19 मई 2024

प्रदोष व्रत
प्रदोष व्रत

सोमवार, 20 मई 2024

प्रदोष व्रत
नृसिंह जयंती

मंगलवार, 21 मई 2024

नृसिंह जयंती
वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा

संग्रह