एक बार शिवशंकर गौरा खेलें पता डार,
गौरा ने बाज़ी मारी हार गए भोलेनाथ….

शिव शंकर ने लगा दिया अपना चंदा,
वो भी हारे और हार गए जट गंगा,
हाथ जोड़कर गौरा बोली स्वामी होश संभाल,
गौरा ने बाज़ी मारी हार…….

शिवशंकर ने लगा दिया सिलबट्टा,
वो भी हारे और हार गए भंग लोटा,
हाथ जोड़ कर गौरा बोली स्वामी होश संभाल,
गौरा ने बाज़ी मारी हार…….

शिव शंकर ने लगा दिया अपना डमरू,
वो भी हारे और हार गए पग घुँघरू,
हाथ जोड़कर गौरा बोली स्वामी होश संभाल,
गौरा ने बाज़ी मारी हार……..

शिव शंकर ने लगा दिया अपना झोला,
वो भी हारे और हार गए सर्पमाला,
हाथ जोड़ फिर भोले बोले तू जीती हम हारे,
गौरा ने बाज़ी मारी हार………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह