( राम नाम रटते रहो,
जब तक घट में प्राण,
कभी तो दीनदयाल के भनक पड़ेगी कान। )

नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा॥

तू कहता है मेरी काया,
काया का गुमान क्या,
तू कहता है मेरी काया,
काया का गुमान क्या,
चाँद सा सुन्दर ये तन तेरा,
मिट्टी में मिल जायेगा,
फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा॥

वहाँ से क्या तू लाया बन्दे,
यहाँ से क्या ले जायेगा,
वहाँ से क्या तू लाया बन्दे,
यहाँ से क्या ले जायेगा,
मुट्ठी बांध के आया बन्दे हाथ पसारे जायेगा,
फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा॥

बालापन में खेल्या खाया,
आयी जवानी मस्त रहा,
बालापन में खेल्या खाया,
आयी जवानी मस्त रहा,
बूढ़ापन में रोग सताये,
हाट पड़ा पछतायेगा,
फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा॥

जपना है सो जप ले बन्दे,
आखिर तो मिट जायेगा,
जपना है सो जप ले बन्दे,
आखिर तो मिट जायेगा,
कहत कबीर सुनो भाई साधो,
करनी का फल पायेगा,
करनी का फल पायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा,
नाम हरी का जप ले बन्दे फिर पीछे पछतायेगा रे,
फिर पीछे पछतायेगा रे,
फिर पीछे पछतायेगा…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह