हर हर महादेव शिव शंकर त्रिपुरारी,
सागर तट पर पूजें, तुमको राम धनुर्धारी,
शंकर से संकट भागे, ओर शत्रुन छेकारी…..

माथे पे गंग तेरे, लिपटे भुजंग तेरे,
भभूति अंग तेरे सोहे, भूतन का संग तेरे,
पीने को भंग तेरे, भाल पे चंद्र मन मोहे,
जय जय शंकर त्रिपुरारी, जय जय शंकर त्रिपुरारी…..

भक्तों के काज सारे, असुरों को तू संघरे,
करते नंदी की सवारी, जग के संघार कर्ता,
डमरू त्रिशूल धर्ता, यश गाते वेदचारी,
हर हर महादेव शंकर त्रिपुरारी…..

गिरिजापति दीनदयाला, गणपति है तुम्हरे लाला,
पल में करते हो बोलबाला, पसुपति तू है रखवाला,
विश्वनाथ जय महाकाला, प्रभु संतन के हो प्रतिपाला,
जय जय शंकर त्रिपुरारी, जय जय शंकर त्रिपुरारी…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह