हर जन्म तेरा होके रहूं शंकरा,
तूं चाहें वहीं मैं करुं शंकरा,
हर जन्म तेरा होके रहूं शंकरा…..

मैं कही भी रहू काम कुछ भी करुं,
काम कुछ भी करुं काम कुछ भी करुं,
तेरे चरणों का वंदन मैं करता हूं,
वंदन करता रहूं वंदन करता रहूं,
नाम हर पल तेरा मैं जपूं शंकरा,
हर जन्म तेरा होके रहूं शंकरा…..

तेरे चरणों का चरणामृत मिलता रहे,
मिलता रहे चरणामृत मिलता रहे,
जीवन तेरी रजा में मेरा चलता रहे,
जीवन चलता रहे जीवन चलता रहे,
तूं खुशी दे या ग़म मैं सहूं शंकरा,
हर जन्म तेरा होके रहूं शंकरा……

जब अनाड़ी की आएगी अंतिम घड़ी,
तब मेरे साथ ना हो कोई गड़बड़ी,
ना कोई गड़बड़ी ना कोई गड़बड़ी,
राख बन गंगाजल में बहूं शंकरा,
हर जन्म तेरा होके रहूं शंकरा……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह