मेरा भोला बड़ा मतवाला
सोहे गले बीच सर्पों की माला
माथे चन्दा सुहाए जटा गंगा बहाये-2
कमर बांधे हुए मृग क्षाला
मेरा………………….!!

खाते भगिया धतूर करें नशा भरपूर २
समुद्र मंथन का विष पीने वाला
मेरा…………………………!!!
रहे परबत कैलाश गौरा मइया के साथ-2
गोद में बैठे गणपति लाला
मेरा……………………….!!

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह