शिव मुझमे है शिव तुम में है,
शिव अनेक में शिव एक है….

हर कण कण का मन है शिव से रौशन,
बोल बम बम मिलेंगे शिव के दर्शन,
बन जाऊं भस्म शिव मुझको ओढ़ ले,
मिल जाए अगर शिव जीवन भी छोड़ दे,
शिव राख में, शिव आग है,
शिव अनेक में शिव एक है……

शिव ही में धरती शिव ही में गगन समाये,
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय,
शिव ही दिन, शिव ही रात सजाये,
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय,
शिव ही से मुक्ति, शिव ही से जीवन पाए,
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय,
शिव ही गंगा, शिव ही प्यास जगाये,
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय,
शिव ही अमृत शिव ही विष पिलाये,
शिव प्राण है, शिव काल है,
ओमकार है, महाकाल है,
शिव मुझ में है, श्वी तुम में है,
शिव अनेक में, शिव एक है….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह