शिव ही मेरी राह भी है,
शिव ही मेरी रूह,
शिव ही मेरी आत्मा है,
शिव ही अंतस हो,
शिव ही तो हर कण में है,
शिव आसमा खुद है,
शिव से जीवन मुक्ति है,
हाँ शिव ही सब कुछ है,
आदियोगी मेरी भोले,
तू ही मुझ में है………

जिस ने जग के सुख के लिए,
विष को है पिया,
जिस ने अपना नूर हर,
कण कण में है दिया,
जटा से निकली धारा ने,
अमृत है सबको दिया,
मेरे शिव के चरणों में,
मैंने सब है रख दिया,
शिव ही तो हर कण में है,
शिव आसमा खुद है,
शिव से जीवन मुक्ति है,
हाँ शिव ही सब कुछ है,
आदियोगी मेरी भोले,
तू ही मुझ में है………

ॐ शंकराय नमः
ॐ जटाधाराय नमः…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह