छोड़ महलों का आराम, एक अघोरी संग प्यार किया,
सांसे रुक जाए गम नहीं, हर वक़्त शिव का इंतज़ार किया,
शिव में पार्वती का हिस्सा आधा है, गौरा जिए अकेले ना ये शिव का वादा हैं
ऐसे प्यार की बताओ कहानी कहा,
शिव जैसा राजा कहा, गौरा जैसी रानी कहा……

इनका साथ ही दुनिया को, प्यार करना सिखाता है,
जीना भी सिखाता है, साथी पे मरना सिखाता है,
थाम के भोले का हाथ, पर्वतों पर रहती है,
हवा जहा की इश्क़ पुकारे,शंकर गौरा कहती है,
शिव के ख़ातिर वो कैलाश तक आ गयी, क्या मोहब्बत होती है ये गौरा बता गयी,
ऐसे प्यार की बताओ कहानी कहा,
शिव जैसा राजा कहा, गौरा जैसी रानी कहा…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह