बाजरे दा ढोडा धने हथा ते पका लेया बाजरे दा ढोडा
धने हरी दा दर्शन भगतो पथरा च पा लिया बाजरे दा ढोडा

इक दिन बेह के प्रेम प्यार विच करण लगे दो गल्ला,
भगवन कहंदे सुन ओ धनेया केहड़ी जगा मैं मल्ला,
तुसी मेरे हल चलाओ
खेता नु पानी लावो
पेहला जा के भगवान मेरियां गौआ नु पानी पिला लिया बाजरे दा ढोडा

भगवन केहंदे सुन ओ धनेया भूख लगी मेनू दाहडी,
पेहला मेनू खान नु देदे फेर करांगे वाह्डी,
भुखेया हल नी चलदे
भुखेया कम नही हुने
कम है तेरा डाहडा धनेया भूख ने मेनू सता लिया
बाजरे दा ढोडा

धना कहंदा सुन मेरे भगवान अज मेरे काभू आया
पंडिता दे घर वेहला रहंदा अपना समा गवाया
वे गला करदा ऐ खोटी
फेर दिआंगा रोटी
पेहला जा के भगवान मेरिया गौआ नु चरा लिया,
बाजरे दा ढोडा

प्रेम प्यार दी गल अनोखी विरला इस नु जाने,
जेह्डा एहदी रजा च आवे ओहिओ मौजा माने
एहदी अनोखी माया
भेद किसे न पाया,
भेद पावे ओहियो जेह्डा प्यार ऐहदे विच आ गया
बाजरे दा ढोडा

मैं बलिहारी जावा श्यामा जिह्ना दियां मने

लोका ने बीज लिया मकी ते बाजरा ,
धने ने बीज लये गने मैं बलिहारी

लोका दा उग गया मक्की ते बाजरा,
धने दे उग गए गने मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर दर्शन ना देंव्दे
धने दा पत्थरा चो जन्मे मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर भोग न लाव्दे ,
धने दा चुप्दा ऐ गन्ने मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर कुझ वी ना पीव्दे,
लस्सी दे पींदा भर भर छने मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर कम न करदे,
धने दा फिरदा बने बने मैं बलिहारी

रेशम दे कपड़े लोक दे ठाकुर पाँवदे,
धने दा बन लंगोटी घुमे मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर कुझ भी नही खांदे
धने दा ठाकुर दोड़े भने

लोका दे ठाकुर दूर दूर वसदे
धने दा ठाकुर कने कने मैं बलिहारी

लोका दे बेड़े डूभ डूभ जांवदे,
धने दा हो गया बने मैं बलिहारी

लोका दे ठाकुर दूर दूर वसदे
धने दा ठाकुर कने कने मैं बलिहारी

लोका दे बेड़े डूभ डूभ जांवदे,
धने दा हो गया बने मैं बलिहारी

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह