तेरी काया निर्मल हो जाएगी तू कर ले व्रत ग्यारस का,
तू कर ले व्रत ग्यारस का तू कर ले भजन हरि का,
तेरी काया निर्मल हो जाएगी तू कर ले व्रत ग्यारस का….

क्यों बेटा बेटा करता है यह बेटा साथ ना देता है,
बेटा बहुओं के हो जाएंगे, तू कर ले व्रत ग्यारस का….

क्यों बहुएं बहुएं करता है यह बहुएं साथ ना देती हैं,

बहूऐ तो न्यारी हो जाएंगी, तू कर ले व्रत ग्यारस का…..

क्यों बेटी बेटी करता है यह बेटी साथ ना देती हैं,
बेटी ससुराल चली जाएंगी, तू कर ले व्रत ग्यारस का…..

क्यों पोती पोते करता है यह पोते साथ ना देते हैं,
पोते परदेस चले जाएंगे, तू कर ले व्रत ग्यारस का…..

क्यों मेरा मेरा करता है यहां पर कुछ भी नहीं तेरा है,

सब पढ़ा रही पर रह जाएगा, तू कर ले व्रत ग्यारस का…..

तू सतगुरु जी के गुण गा ले जीवन अपना सफल बना ले,
तू भव से पार उतर जाएगा, तू कर ले व्रत ग्यारस का…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी

संग्रह