अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में….

तुम यह ना समझना भक्तों,
हम बिना गांव के होंगे,
अरे अयोध्या हमारा गांव,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

तुम रामलला को लाओ,
और मंदिर यही बनाओ,
अरे संतों की सुनो पुकार,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

मेरा मंदिर यहीं बनाओ,
सारे जग में खुशी मनाओ,
अरे सब बोलो जय जय कार,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

श्रीराम की ध्वनि वेदों में,
और गूंज रही घर-घर में,
अरे हर दिल की यही पुकार,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

यह कोर्ट फैसला आया,
पांचों जजों ने बांच सुनाया,
अरे तुम धीर धरो नर नार,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

सब धर्म एक ही जावे,
मंदिर की खुशी मनावे,
अरे सब बोले सीता राम,
मंदिर बने इसी नगरी में,
अरे भक्तों से कह रहे राम,
मंदिर बने इसी नगरी में……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

वैशाखी पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

वैशाखी पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा

गुरूवार, 23 मई 2024

बुद्ध पूर्णिमा
कूर्म जयंती

गुरूवार, 23 मई 2024

कूर्म जयंती
नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी

संग्रह