मईया रानी का दर मिल गया, एक बेघर को घर मिल गया,
एक भटके से राही को, आसरा उम्र भर मिल गया,
मईया रानी का दर मिल गया…..

जिस ने श्रद्धा से माँगा यहाँ, उसको मोह माँगा वर मिल गया,
बेघरों को भी जैसे नया, आशिया चाँद पर मिल गया,
मईया रानी का दर मिल गया…..

किसको देखु तुझे देख कर, सब तू जाने नजर मिल गई,
महारानी की नजर हो गाई, बेहुनर को हुनर मिल गया,
मईया रानी का दर मिल गया….

मिल जाएगी मंजिल हमे, तेरी किर्पा से सब हो गया,
तेरा सुनील मां हुआ निहाल, तेरे दर से ये सिर मिल गया,
मईया रानी का दर मिल गया…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह