तेरे दर पे आ गए हैं अब दूर नहीं जाना,
दामन पकड़ा तेरा कहीं और नहीं जाना……….

बिगड़ी तक़दीरों को मैय्या आप बनाते हो,
डूबी हुई नैय्या को मैय्या आप उठाते हो,
मेरा ये जीवन दाती चरणो में लग जाऊँ,
तेरे दर पे आ गए हैं अब दूर नहीं जाना…..

ये जाम मोहब्बत का जो कोई पी लेता है,
भूल जाता है ग़म सारे मस्ती में जी लेता,
मस्ती उतरती ही नहीं नशा चढ़ के उतर जाता,
तेरे दर पे आ गए हैं अब दूर नहीं जाना……

तस्वीर तेरी दाती मेरे मन में बस गयी है,
तेरी राह मेरी दाती रोम रोम में बस गयी है,
जब ताल से ताल बजे तब रुका नहीं जाता,
तेरे दर पे आ गए हैं अब दूर नहीं जाना……

ये प्यार का सौदा है निर्धन की बाज़ी है,
कोई माने या ना माने मेरी मैय्या राज़ी है,
जब उठे हिलोरे माँ तब रुका नहीं जाता,
तेरे दर पे आ गए हैं अब दूर नहीं जाना…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह