तेरे दर पे माँ आना मेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है………

मैंने मन को तो मंदिर बना ही लिया,
उसमे आसन लगाना तेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है……

मैंने दीपक में बाती लगा तो दी है,
उसमे ज्योति जलाना तेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है……

मैंने चरणों में शीश झुका ही लिया,
इस शीश को उठाया तेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है……

मैंने राहों में कांटे बिछा तो दिए,
इन काँटों से बचाना तेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है……

मैंने तुझको तो अपना बना ही लिया,
मुझे अपना बनाना तेरा काम है,
मेरी बिगड़ी बनाना तेरा काम है……

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह