आओ रे गणराज गौरी के लाल,
आओ रे गणराज गौरी के लाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
सुनता ना कोई और दुखियों का हाल,
सुनता ना कोई और दुखियों का हाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल।

तूने भवसागर से नैया को निकाला,
जो भी तेरे शरण आया उसको संभाला,
सिद्धिविनायक तू सिद्ध काज करता,
तू संकटमोचन है संकटो का हर्ता,
सबको संभाला जैसे हमे भी संभाल,
सबको संभाला जैसे हमे भी संभाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल।

रिद्धि सिद्धि वाला तू चार भुजाधारी,
आ भी जाओ करके अब मूष पे सवारी,
तुझे ऋषि मुनियो ने दिन रैन पूजा,
तुझसा अभय दानी सृष्टि में ना दूजा,
तूने किये पूरे है सबके सवाल,
तूने किये पूरे है सबके सवाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
सुनता ना कोई और दुखियों का हाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल।

जो भी तेरे भक्ति में खुद को है डुबोता,
उसका कभी भूल के अमंगल ना होता,
हम भी निर्दोष तेरे छोटे से पुजारी,
कभी सुध ले लो हे गणेश्वर हमारी,
थोड़ा बहुत कर ले तू हमारा खयाल,
थोड़ा बहुत कर ले तू हमारा खयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल।

आओ रे गणराज गौरी के लाल,
आओ रे गणराज गौरी के लाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल,
हम दीन है दाता तुम दीनदयाल……..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह