आये हैं तेरे द्वारे आंसुओ की लेके धारे,
गिरजा सुमन प्यारे चरण तुम्हारे।।

माथे पे रोरी चंदन स्वीकारो मेरा वन्दन,
जय हो तोरी गौरी नंदन करते तेरा अभिनंदन,
श्रद्धा सुमन मेरा चरण तुम्हारे….

मंदमति हु स्वामी तुम तो हो अंतरयामी,
जन्मो का मैं खलकामी तुम हो जगत के स्वामी,
भव भंजना काटो कष्ट हमारे…..

धन वैभव के तुम दाता तुम ही हो बुद्धि प्रदाता,
जन्मो का तुमसे दाता पुत्र पिता का नाता,
राजेन्द्र द्वारे तेरी बाट निहारे….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह