अब के बरस मोरे गाँव में बप्पा गुजरी सूत गणराज,
देवा होके सवार मूसा आओ महाराज….

गलियन में फूल बिछाओ पालक पावड़े राह में,
वंदन बारे द्वार सजाऊँ चौक पुराऊँ चाह में,
कैसे मनाऊं तुमको शिव जी के लाडले,
सुनकर के मेरी बिनती बाहों को तू थाम ले,
व्याकुल अँखियाँ राह निहारे दिवान के सरताज,
देवा होके सवार मूसा आओ महाराज…..

रिद्धि सिद्धि दोनों हैं देवा सेवा में आपकी,
जिस पर कृपा हो प्रभु जी चिंता फिर किस बात की,
दोनों हाथों को जोड़ कर सर को झुकाऊँगी,
चरणों की धुल अपने माथे से लगाउंगी,
बीच बहवर में फांसी है नैया आन बचाओ लाज,
देवा होके सवार मूसा आओ महाराज…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह