गिरिजा के छैया गणपति तुम्हे पुकारू,
पूजूं मैं तुम्हे आरती तेरी उतारूं,
गिरिजा के छैया….

पान फूल मेवा से चरणों की सेवा से,
प्रथम तुम्हे पूजूं छवि चित धारण,
गिरिजा के छैया गणपति तुम्हे पुकारू,
गिरिजा के छैया…..

देव दुष्ट हन्ता हो जगत के नियंता हो,
शरण आऊं आपकी मैं पइयाँ पखारूँ,
गिरिजा के छैया गणपति तुम्हे पुकारू,
गिरिजा के छैया…..

रिद्धि सिद्धि दाता हो ज्ञान के विधाता हो,
हर लो दुःख देवा आशा से तुम्हे निहारूं,
गिरिजा के छैया गणपति तुम्हे पुकारू,
गिरिजा के छैया…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह