देवो के महाराज गणपति देवो के महाराज,
सब से पहले तुम्हे मनाये,
पूरण कर दो काज गणपति देवो के महाराज,
देवो के महाराज……

लम्बोदर सुन्दर काया मुस्क की सवारी,
सूरज हो चाहे चंदा तारे सब है शरण तिहारी ,
काज करे आरम्भ गजानन करे तेरा आगाज,
गणपति देवो के महाराज…..

फूल सुपारी पान और लड्डू तेरे चरण चढ़ाऊ,
आ के मोका दो सेवा का छपन भोग लगाऊ,
जैसी सेवा तुम चाहोगे मैं करुगा तेरी आज,
गणपति देवो के महाराज……

जिस घर में हो वास तेरा अनधन भेवव आये,
गोरव तेरा भजन लिखे है अटल बिहारी गाये,
कोई न जाने माया तेरी,
ना जाने कोई राज गणपति देवो के महाराज…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह