गणपति गणराज हमारे,
ओ सखी धीरे झुलैयो,
धीरे झुलैयो ओ सखी,
होले झुलैयो,
गणपति गणराज हमारे,
ओ सखी धीरे झूलाइयो…..

काहे के तो बने हैं पालना,
काहे की दोर लगायो,
ओ सखी धीरे झुलैयो,
धीरे झुलैयो रे,
सखी होल झूलाइयो,
गणपति गणराज हमारे
ओ सखी धीरे झूलाइयो….

चंदन के तोरे बने हैं पालना,
रेशम के दोर लगायो,
ओ शाखी धीरे झूलाइयो,
धीरे झुलैयो रे,
सखी होले झूलाइयो,
गणपति गणराज हमारे,
ओ सखी धीरे झूलाइयो….

कौन झूले कौन झूलावे,
कौना आज चलो बलैया,
ओ सखी धीरे झूलाइयो,
धीरे झूलाइयो रे,
सखी होले झूलाइयो,
गणपति गणराज हमारे,
ओ सखी धीरे झूलाइयो….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह