भोला मेरा डमरू बजा के चला,
भोला मेरा डमरू बजा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला…….

भोले तेरी प्रीत मे जोगन हो गई,
गौरा की भी खबर तो तू ले,
अरज़ मैं करती हूँ चरणों मे बैठी हूँ,
मेरी तरफ इक नज़र देख ले……

भोले तेरी प्रीत मे जोगन हो गई,
गौरा की भी खबर तो तू ले,
अरज़ मैं करती हूँ चरणों मे बैठी हूँ,
मेरी तरफ इक नज़र देख ले…..

माथे पे चंदा सजा के चला,
तन मृग छाला पहन के चला,
भोला मेरा डमरू…..
हम्म्म्म……
भोला मेरा डमरू बजा के चला,
भोला मेरा डमरू बजा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला…..

एक ही क्षण मे दीवानी हुई,
कल तक महलो की रानी जो थी,
कैसी की तूने जादूगरी भोले,
वन वन संग भटकने लगी,
नंदी सवारी बनाके चला,
अपनी जटाये लहराके के चला,
भोला मेरा डमरू बजा के चला,
भोला मेरा डमरू बजा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला,
कष्टों को मेरे चुरा के चला,
माथे पे चन्दन लगा के चला,
अंगों मे भस्म रमा के चला…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी
वरुथिनी एकादशी

शनिवार, 04 मई 2024

वरुथिनी एकादशी
प्रदोष व्रत

रविवार, 05 मई 2024

प्रदोष व्रत

संग्रह