गजानंद करम कर करम की घड़ी है,
मेरी जिंदगी हाथ जोड़े खड़ी है,
मुकद्दर की कस्ती भंवर में पड़ी है,
मेरी जिंदगी हाथ जोड़े खड़ी है…..

दर पे तुम्हारे आते रहे हम,
मन मंदिर को सजाते रहे हम,
भजन तेरे सबको सुनाते रहे हम,
तमन्ना यही और दुआ भी यही है,
गजानंद करम कर करम की घड़ी है…..

शिव के दुल्हारे हमे दो सहारा,
भव सागर में दे दो किनारा,
सिवा तेरे है कौन जग में हमारा,
गजानंद ये दुनियां बड़ी मतलबी है,
गजानंद करम कर करम की घड़ी है…..

तुम्हे है पता मेरे हालात क्या है,
मुझे है खबर मेरी औकात क्या है,
अगर हो दया तेरी फिर बात क्या है,
बड़ा तू है और बात तेरी बड़ी है,
गजानंद करम कर करम की घड़ी है…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

नारद जयंती

शुक्रवार, 24 मई 2024

नारद जयंती
संकष्टी चतुर्थी

रविवार, 26 मई 2024

संकष्टी चतुर्थी
अपरा एकादशी

रविवार, 02 जून 2024

अपरा एकादशी
मासिक शिवरात्रि

मंगलवार, 04 जून 2024

मासिक शिवरात्रि
प्रदोष व्रत

मंगलवार, 04 जून 2024

प्रदोष व्रत
शनि जयंती

गुरूवार, 06 जून 2024

शनि जयंती

संग्रह