गणपति गोरा दे लाल पूर्ण किजो मोरे काज…-2
विच सभा दे बैठे यां, मोरी पत रखियो महाराज,
गणपति गौरा दे लाल पूर्ण किजो मोरे काज॥

सारी दुनिया जपदी रेहनदी, सब तो पहला तेरा नाम,
पल में मुश्किल हल कर दे देंदे, जो भी लेंदा तेरा नाम,
विच सभा दे बैठे यां मोरी पत रखियो महाराज,
गणपति गोरा दे लाल पूर्ण किजो मोरे काज॥

तुम हो साथी तुम्ही सहारे, मां गौरा दे राज दुलारे,
दीन दुखी की विनती सुनते, सारा जगत तुम्हें पुकारे,
विच सभा दे बैठे यां मोरी पत रखियो महाराज,
गणपति गोरा दे लाल पूर्ण कीजों मोरे काज॥

सालवाले दा शर्मा लिखदा,
जस्सू दे हर दुःख नू कट दा,
राजू राज ने जीवन सारा, कदमों में तेरे कर डाला,
विच सभा दे बैठे यां मोरी पत रखियो महाराज,
गणपति गोरा दे लाल पूर्ण कीजों मोरे काज॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह