जय गणपति दुविधा हटी,
जो तुमको किया प्रणाम….-2
नाम जो ले तेरा सबसे पहले,
पूर्ण करना काम,
जय गणपति दुविधा हटी….

रिद्धि सिद्धि के तुम दाता,
प्रथमे तुम्हें ध्याएं हम….-2
विघ्न हरण हे सुख दाता,
सब सुख तुम्हीं से पाएं हम…-2
देवी देव मनाएं तुमको,
हम बालक अनजान,
जय गणपति दुविधा हटी….

मिटते सकल कलेश ही,
नाम गजानन ध्यान से….-2
काम सफल हो जाते सारे,
गौरी लाल मनाने से…-2
अच्छा होता है गणपति,
जपने का अन्जाम,
जय गणपति दुविधा हटी….

तीन लोक के स्वामी हो,
मूषक बना सहायक है…-2
नाम अनेकों प्रभु तेरे,
वक्रतुण्ड गणनायक हैं….-2
करलो अब स्वीकार विनायक,
करता “श्याम” प्रणाम,
जय गणपति दुविधा हटी,
जो तुमको किया प्रणाम,
नाम जो ले तेरा सबसे पहले,
पूर्ण करना काम,
जय गणपति दुविधा हटी….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

महेश नवमी

शनिवार, 15 जून 2024

महेश नवमी
गंगा दशहरा

रविवार, 16 जून 2024

गंगा दशहरा
गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती

संग्रह