देवा तू जिसकी हिफाज़त करे,
उसको दुखों से रखता परे,
दुनिया के लोगों की क्या है बिसात,
मौत भी छूने से उसको डरे,
एकदंत वक्रतुण्ड विध्नेश्वरा….

देवा श्री गणेशा मेरे बप्पा मौर्या,
सिद्धी विनायक गज वक्र धारी,
सबसे प्रथम होये पूजा तुम्हारी,
हे गणपति गौरी सुत गणेशा,
मन भाये तोहे मूषक सवारी…..

आता है जो भी दर पे तेरे,
तू उसके संकट पल में हरे,
एकदंत वक्रतुण्ड विध्नेश्वरा,
देवा श्री गणेशा मेरे बप्पा मोरिया…..

तुम हो दया की मूरत हे देवा,
सबको तुम्हारी ज़रूरत हे देवा,
आती नज़र हमको मुश्किलों में,
बस आप की ही सूरत हे देवा…..

देखे बिना खोटे और खरे,
तू अपने भक्तों की झोली भरे,
एकदंत वक्रतुण्ड विध्नेश्वरा,
देवा श्री गणेशा मेरे बप्पा मोरिया…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह