( माइ फ्रेंड गणेशा,
वक्रतुंड महाकाय सूर्य कोटि समप्रभः
निर्विध्नं कुरुमेदेव सर्वकार्येषु सर्वदा। )

गणपति महाराज बनाये बिगड़े काज,
मूषक है सवारी क्या निराला है अंदाज़,
गणपति बप्पा सब देवों में देवता निराले हैं,
लडडू इनको प्यारे है बड़े ही भोले भाले है…..

रिद्धि सिद्धि संग लेके जिनके घर मे आते हैं,
दुख का विनाश होता भाग्य खुल जाते हैं,
ज्ञान का भंडार और बुध्दि देने वाले हैं,
लडडू इनको प्यारे है बड़े ही भोले भाले हैं……

शिव शम्भू के लाडले हैं गउरा के दुलारे हैं,
माइ फ्रेंड गणेशा कहते बच्चों को भी प्यारे हैं,
अंधेरों को दूर करके ले आते उजाले हैं,
लडडू इनको प्यारे हैं बड़े ही भोले भाले हैं…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह