गणराजा शिव गौरा के लाल
गजानन गणराजा,
आजा आजा घर मेरे अब आजा,
गणराजा शिव गौरा के लाल…..

प्रथम पूज्य हो तुम तो गणेशा,
मंगल काज बनाते हो,
रिद्धि सिद्धि के तुम हो दाता,
भाग्य हमारे बनाते हो,
रिद्धि सिद्धि को साथ में लेके,
घर मेरे अब आजा,
गणराजा शिव गौरा के लाल,
गजानन गणराजा………

लम्बी सूंड तुम्हारी स्वामी भक्तों के मन भाति है,
मूषक वाहन तेरी सवारी जग में सबसे न्यारी है,
मूषक पे होके सवार तुम घर मेरे अब आजा,
गणराजा शिव गौरा के लाल,
गजानन गणराजा………

एक दन्त हो तुम तो देवा मोदक भोग लगाते हो,
विघ्न को हरने तुम तो देवा दौड़े यूँ चले आते हो,
विघ्न को हरना मंगल करना भाग्य हमारे बना जा,
गणराजा शिव गौरा के लाल,
गजानन गणराजा………

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह