लक्ष्मी नाथ माने , प्यारो लागे,
चार भुजा रो नाथ,,,
‘म्हारो, चित चरणों में राख xll’-ll

मोर मुकट, सिर छत्र विराजे*,
कानों में थारे, कुण्डल साजे ll
ग़ल हीरों रो, हार हज़ारी,
भगतों ने हिवड़े लगाए,,,
‘म्हारो, चित चरणों में राख xll’
लक्ष्मी नाथ माने,,,,,,,,,,,,,,,,,

रत्न सिँहासन, आप विराजो*,
राधा रुक्मणि, संग में विराजे ll
चरन धोए, चरनामृत पीऊँ,
मगन रहूँ दिन रात,,,
‘म्हारो, चित चरणों में राख xll’
लक्ष्मी नाथ माने,,,,,,,,,,,,,,,,,

माखन मिश्री रा, भोग लगाऊँ*,
हाथ जोड़, तने अर्ज़ सुनाऊँ ll
सुबह शाम, थोरा दर्शन पाऊँ,
खुशियाँ मनाऊँ दिन रात,,,
‘म्हारो, चित चरणों में राख xll’
लक्ष्मी नाथ मने,,,,,,,,,,,,,,,,,

दर्शन बिन दोए, अख्खियाँ प्यासी*,
दरस देवो नी, द्वारिका रा वासी ll
रात दिन, थोरा गुण गाऊँ,
कर दो भव से पार,,,
‘म्हारो, चित चरणों में राख xll’
लक्ष्मी नाथ माने,,,,,,,,,,,,,,,,,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

राम नवमी

बुधवार, 17 अप्रैल 2024

राम नवमी
कामदा एकादशी

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024

कामदा एकादशी
महावीर जन्म कल्याणक

रविवार, 21 अप्रैल 2024

महावीर जन्म कल्याणक
हनुमान जयंती

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

हनुमान जयंती
चैत्र पूर्णिमा

मंगलवार, 23 अप्रैल 2024

चैत्र पूर्णिमा
संकष्टी चतुर्थी

शनिवार, 27 अप्रैल 2024

संकष्टी चतुर्थी

संग्रह