गौरी के लाला, रखियो जी रखियो जी म्हारी लाज जी,
हाथ जोड़कर करू वंदना, सुन लीजो महाराज जी,
गौरी के लाला…..

एक दन्त दयावन्त कहावो, महिमा थारी न्यारी,
चार भुजा माथे तिलक सुहावे, शोभा सबसे न्यारी,
करो सवारी मूषक की, देवो के सरताज जी,
गौरी के लाला…..

ध्यान धरे जो प्रथम तिहारो, मानवाछिंत फल पावे,
मिट जावे सब विघ्न विनाशक, रिद्धि सिद्धि घर आवे,
सब की नईया पार करो, करियो भव से पार जी,
गौरी के लाला…..

पूजा पाठ ना आवे कोई, कैसे तुम्हे मनाऊ,
अवगुण म्हारे ध्यान ना धरियो, चरणन सीस नवाऊ,
प्रीत सदा चरणन की पाऊ, दीजो ऐसा वरदान जी,
गौरी के लाला…..

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह