हर इक सुपना साकार हो गया,
लड़ लग माँ दे बेड़ा पार हो गया।

साडे उत्ते दातिए तू कर्म कमाया ए,
हर सुख दुनिया दा झोली विच पाया ए,
ऐसा माये तेरा उपकार हो गया,
लड़ लग माँ दे बेड़ा पार हो गया…..

मेहरा वाली मईया सानू सब कुझ दित्ता ए,
नाम तेरा दातिए नि मिश्री तो मीठा ए,
चरणा नाल तेरे सानू प्यार हो गया,
लड़ लग माँ दे बेड़ा पार हो गया…….

‘बक्शी पवन’ नू तू किता मालामाल माँ,
‘प्रेम’ तेरा प्यार पाके हो गया निहाल माँ,
‘भानु’ भी तेरा सेवादार हो गया,
लड़ लग माँ दे बेड़ा पार हो गया…….

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

बुधवार, 24 जुलाई 2024

संकष्टी चतुर्थी
कामिका एकादशी

बुधवार, 31 जुलाई 2024

कामिका एकादशी
मासिक शिवरात्रि

शुक्रवार, 02 अगस्त 2024

मासिक शिवरात्रि
हरियाली तीज

बुधवार, 07 अगस्त 2024

हरियाली तीज
नाग पंचमी

शुक्रवार, 09 अगस्त 2024

नाग पंचमी
कल्कि जयंती

शनिवार, 10 अगस्त 2024

कल्कि जयंती

संग्रह