गौरा गणपत तेरे संग विराजे,
अद्भुत छवि है साजे,
गौरा गणपत तेरे संग विराजे

गंगा जल भर के कावड लाऊ पूरी श्रधा से भोले तुम्हे नेहलाऊ
भोले शंकर तुम देव हो साखे
अद्भुत छवि है साजे,…

सनान करा के तुम को सजाऊ इतर अधीर भोले तुम को लगाऊ,
और चडाऊ बेल और पाते,
अद्भुत छवि है साजे,

मेरे जीवन की ये एक लगन है
रात दिन तेरी पूजा मेरा धर्मं है
चरणों की धूलि से तिलक लगादे,
अद्भुत छवि है साजे,

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि

संग्रह