हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम
एकदंतम सदा मंगलम कारकम

कौन कहते है गणराज आते नहीं
हम तो प्रेम से उनको बुलाते नहीं
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम
एकदंतम सदा मंगलम कारकम

कौन कहते है गणराज नाचते नहीं
गणेश भक्तों के जैसे नचाते नहीं
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम
एकदंतम सदा मंगलम कारकम

कौन कहते है गणराज खाते नहीं
भाव से उनको मोदक खिलाते नहीं
हे गजाजन गणेशा गौरी सुतम
एकदंतम सदा मंगलम कारकम

देखो “आशु” बना बावला प्यार में
बैठा गणपत के चरणों में सत्कार में
भावना ऐसी तुम क्यों दिखाते नहीं
तुम तो प्रेम से उनको बुलाते नहीं

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

गायत्री जयंती

सोमवार, 17 जून 2024

गायत्री जयंती
निर्जला एकादशी

मंगलवार, 18 जून 2024

निर्जला एकादशी
ज्येष्ठ पूर्णिमा

शनिवार, 22 जून 2024

ज्येष्ठ पूर्णिमा
संत कबीर दास जयंती

शनिवार, 22 जून 2024

संत कबीर दास जयंती
संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी

संग्रह