हे गणपति गिरिजानंदन हम ध्याये तुमको आज,
सकल विघ्न करो दूर हमारो रखियो हमरी लाज,
प्रभु मोरे ध्याये तुमको आज,
प्रभु मोरे रखियो हमरी लाज…

मोह माया मे तुमको भूले, दर दर भटके भँवर मे झूले,
अब आए हम शरण तिहारी, छोड़ जगत के काज,
प्रभु मोरे रखियो हमरी लाज…

रिद्धि सिद्धि दोऊ चँवर डोलावे, चरणन मे भक्तन सुख पावे,
शरणागत वत्सल लम्बोदर, किरपा करो गणराज,
प्रभु मोरे रखियो हमरी लाज…

प्रथम पूज्य हे नाथ दयानिधि, भक्ति का वर दो हे करुणानिधि,
कलि काल के घोर पाप से, निर्भय हो सकल समाज,
प्रभु मोरे रखियो हमरी लाज…

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह