करने भगतो का उधार होके मुसे पे सवार
गजानन घर घर जावे से
भरके झोली खुशिया से देवा दिख लावे से

सब देवो में सब से पेहले भगवन तुम्हे मनावे
घने प्रेम से मोदक लड्डू भगवन तुम्हे चडावे महिमा मिलके गावे से
भर के झोली खुशिया से देवा दिखलावे से

मिया तुम्हरी गोरा देखो लाड प्यार बरसावे
पिता तुम्हारे भोले शंकर देखो जान लुटावे
भर के झोली खुशिया से देवा दिखलावे से

दर पे जो भी आवे इनके मुह माँगा फल पावे
रोता रोता आवे दर पे हस्ता हस्ता जावे अपने कष्ट मिटावे से
भर के झोली खुशिया से देवा दिखलावे से

सुख करता दुःख हरता देखो गणपति जी कहलावे
विघन विनायक भगवन देखो इस जग में कहलावे
शत शत शीश जुकावे से
भर के झोली खुशिया से देवा दिखलावे से

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह