जय गणेश जय गणेश नाम तुम्हारा,
जब किया याद बना काम हमारा।।

प्रथम पूजा आपकी है पान सुपारी,
मात उनकी पार्वती पिता त्रिपुरारी,
हो गया हमपे एहसान तुम्हारा,
जब किया याद बना काम हमारा।।

मूसे की सवारी और कुश हाथ में,
लड्डू का भोग लगता प्रसाद में,
हो गया हमपे एहसान तुम्हारा,
जब किया याद बना काम हमारा।।

बुद्धि के तुम हो दाता रखो लाज हमारी,
आयी हु प्रभु आयी मैं शरण तुम्हारी,
हो गया हमपे एहसान तुम्हारा,
जब किया याद बना काम हमारा।।

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह