जरा इतना बता दो गणराज,
तेरा सुड सुडाला मुखड़ा क्यों॥

माता ने दर पे खड़ा किया,
आने ना पाए कोई यहां,
मैं बन गया पहरेदार,
तेरा सूड सुनाला मुखड़ा क्यों,
जरा इतना बता दो गणराज,
तेरा सुड सुडाला मुखड़ा क्यों॥

माता की आज्ञा मान लई,
बाबा की आज्ञा टाल दई,
मैंने गर्दन लई कटवाए,
तेरा सुड सुनाला मुखड़ा क्यों,
जरा इतना बता दो गणराज,
तेरा सुड सुडाला मुखड़ा क्यों॥

माता ने मन में ठान लई,
भोले ने प्रतिज्ञा मान लई,
मेरा मुखड़ा दिया बिगाड़,
तेरा सूड सुडाला मुखड़ा क्यों,
जरा इतना बता दो गणराज,
तेरा सुड सुडाला मुखड़ा क्यों॥

माता ने वर एक मांगा है,
देवों में देव निराला है,
याहै पूजे जग संसार,
तेरा सूड सुंडाला मुखड़ा क्यों,
जरा इतना बता दो गणराज,
तेरा सुड सुडाला मुखड़ा क्यों॥

Comments

संबंधित लेख

आगामी उपवास और त्यौहार

संकष्टी चतुर्थी

मंगलवार, 25 जून 2024

संकष्टी चतुर्थी
योगिनी एकादशी

मंगलवार, 02 जुलाई 2024

योगिनी एकादशी
मासिक शिवरात्रि

गुरूवार, 04 जुलाई 2024

मासिक शिवरात्रि
जगन्नाथ रथ यात्रा

रविवार, 07 जुलाई 2024

जगन्नाथ रथ यात्रा
गौरी व्रत

गुरूवार, 11 जुलाई 2024

गौरी व्रत
देवशयनी एकादशी

बुधवार, 17 जुलाई 2024

देवशयनी एकादशी

संग्रह